Billboard Ads

सियाटिका का इलाज
सियाटिका एक प्रकार का कमर दर्द है। जो कमर से शुरू होते हुए पैर तक पहुँच जाता है। जिसकी वजह से इंसान ना चल पाता है और ना ही खडा हो पाता है।
जब किसी इंसान को तेजी से झटका लगता है तो उसकी कमर मे स्थित वर्टिब्रा अपनी जगह से खिसक जाती है और नस दब जाती है। इसी की वजह से कमर मे तेज दर्द होने लगता है जो बहुत जल्दी से पैरो को भी अपनी चपेट में ले लेता है। पैरो मे झनझनाहट, सुन्नपन, भारीपन व खिचांव होता है।

सियाटिका वैसे कोई लाइलाज बीमारी नही है। इसका इलाज स्पाइनल फ्यूजन तकनीक से संभव है।

सियाटिका का इलाज -

पहले इसके इलाज मे बहुत अधिक दर्द से गुजरना पड़ता था। लेकिन अब स्पाइनल फ्यूजन तकनीक आने से थोड़ी राहत मिली है। इस तकनीक मे रोगी की कमर छोटा सा छेद किया जाता है। और रीढ़ की हड्डी मे मौजूद खराब डिस्क को बाहार निकाल लिया जाता है। उसकी जगह 'पीक केज'(जाली) को डाल दिया जाता है। और बर्टिब्रा मे राॅड डालकर स्क्रू से कस दिया जाता है।
स्पाइनल फ्यूजन तकनीक पूरी तरह से सुरझित है और कारगर साबित होती है। आॅपरेशन के बाद नसो पूरी तरह से खूल जाती है और रोगी एक व दो दिन बाद ही चलने फिरने लगता है।
तथा 15 - 20 दिनों बाद रोगी पहले जैसी दिनचर्या शूरू कर सकता है।